झील की वजह से बना पर्यटन स्थल, गांव में शौचालय की असुविधा

samwadbundelkhand.com | Updated : 12/02/21 04:21 AM

Share via Whatsapp

Jhansi

रिपोर्ट - आयुष शुक्ला, मेघा झा 9654606505 झाँसी, गढ़मऊ झील सुनने में और देखने में घूमने का बड़ा ही मनमोहक पर्यटन स्थल है,झांसी जिले का मशहूर स्थान। वहीं एक ओर उसी झील के किनारे बसा गढ़मऊ गांव जहां ना तो शौचालय है, ना ही सड़क। गांव के हाल ऐसे जैसे वहा इंसान ही नहीं रहते। गांव में ना तो खंभों पर लाइट है ना ही हैंडपंप की सुविधा है, ग्रामीणों की समस्या सुनने के लिए जब संवाद बुंदेलखंड की टीम गढ़मऊ झील के पास बसे ग्राम गढ़मऊ में पहुंची तो सड़क की हालत देखते नहीं बन रही थी, जहां पत्थर और गड्ढे तो थे पर सड़क नहीं। पाइप लाइन बिछने के बाद गांववासियों ने बताया कि सड़क बनी तो थी परंतु पानी की पाइप लाइन बिछने के बाद उस सड़क की हालत लगभग 2 साल से ऐसे ही है। पाइप लाइन बिछने के बाद उस सड़क को सही ही नहीं किया गया। गांव के अंदर जाने के बाद एक वृद्धा रामकली ने बताया कि गांव में उनको और उन जैसी महिलाओं को विधवा पेंशन योजना का लाभ नहीं मिल रहा है। ना ही सरकारी कॉलोनी आवंटित की गई है। उनका कहना था कि उनका ना तो कोई बेटा है, और ना ही कोई और परिवार वाला, गुजारा करने के लिए और कमाने के लिए ना तो उनकी उम्र है ना कोई और सहारा। गांव में मात्र दो हैंडपंप है जिससे पीने के पानी का गुजारा होता है _पूरे गाँव का_ और अगर उनमें से किसी एक हैंडपंप में खराबी आ जाए तो हफ्तों तक वह हैंडपंप सही नहीं होता। कोटेदार के राशन में धांधली तौल में गड़बड़ी ग्रामवासी अंकित भार्गव के अनुसार कोटेदार से जो राशन मिलता है,उसमें धांधली और सामान की तौल में गड़बड़ी सामने आती रहती है, लेकिन समस्या यह है कि शिकायत करने पर भी कोई सुनवाई नहीं होती। एक अन्य ग्रामवासी अंकित ने बताया गांव में नालियां वैसे तो है ही नहीं और जो है उनके हाल बेहाल हो रखे हैं। जिससे गंदगी कीचड़ भरपूर मात्रा में गांव की शोभा बढ़ाते हैं, और आए दिन वहां कोई ना कोई दुर्घटना होती रहती है। आगामी चुनाव से उम्मीद गांव वालों की बस एक ही उम्मीद है कि आगामी पंचवर्षीय में जो भी प्रधान उस गांव की जिम्मेदारी लें, उनके अंदर ग्राम और ग्रामवासियों की उन्नति की भावना हो। साथ ही साथ लोगों की शिकायतें सुनने के लिए तत्पर रहें और समय से उनका समाधान करना अपना कर्तव्य समझे।



बुंदेलखंड

देश / विदेश